स्मार्ट ट्रांसपोर्ट सिस्टम से मिलेगी दिल्ली को जाम व प्रदूषण से मुक्ति - The Forth Pillar

स्मार्ट ट्रांसपोर्ट सिस्टम से मिलेगी दिल्ली को जाम व प्रदूषण से मुक्ति

नई दिल्ली।राजधानी दिल्ली में ट्रैफिक जाम और प्रदूषण की समस्या अब आम बात हो गई है। सरकार इसके लिए सड़कों पर वाहनों की बढ़ती समस्या को जिम्मेदार मानती है। वहीँ ट्रांसपोर्ट विशेषज्ञ इसके लिए मौजूदा ट्रांसपोर्ट सिस्टम की खामियों को दोषी ठहराते हैं। उनके मुताबिक अगर मौजूद सिस्टम को स्मार्ट ट्रांसपोर्ट सिस्टम में तब्दील कर दिया जाए तो काफी हद तक इन परेशानियों से निजात मिल सकती है। फिलहाल दिल्ली में अजीवी नामक एक संस्था सार्वजनिक परिवहन को स्मार्ट ट्रांसपोर्ट में तब्दील करने में जुटी है।

गौरतलब है की अजीवी पिछले करीब एक साल से राजघाट स्थित डिम्ट्स के बस डिपो में अपनी सेवाएं दे रही है। संस्था ने इस डिपो में स्मार्ट फ्लीट मैनेजमेंट सिस्टम की शुरुआत की थी। इसके जरिए पूरे डिपो को तकनीक के जरिये स्मार्ट डिपो में तब्दील किया गया। इस सिस्टम के जरिए बसों और ड्राइवर्स का सभी डाटा कंप्यूटराइज्ड किया गया। जैसे बस में कितने जरुरी सर्टिफिकेट वैध हैं। वे कब रिन्यू होने हैं। बस के टायर किस हालात में हैं। उन्हें कब बदला जाना है। बस की सर्विस कितने समय पर होनी है। बस के सभी पार्ट्स सही हैं या नहीं। बस के फिटनेस सर्टिफिकेट पूरे और वैध हैं या नहीं। परमिट सही है या नहीं। ड्राईवर का लाइसेंस वैध है या नहीं। वो कब रिन्यू होगा जैसी तमाम छोटी-बड़ी जानकारियां इस सिस्टम के जरिये ही उपडेट होती हैं। किसी भी जानकारी की कमी का नोटिफिकेशन तुरंत मिल जाता है।

स्मार्ट ट्रांसपोर्ट कंसलटेंट विशाल गुप्ता के मुताबिक दिल्ली जैसे महानगर में स्मार्ट फ्लीट मैनेजमेंट सिस्टम काफी कारगर है। अगर राजघाट डिपो की ही बात करें तो यहाँ 116 बसें हैं। इनमे से ज्यादातर बसें रोज सड़को पर होती हैं। क्योंकि इन बसों की छोटी-छोटी कमी को सिस्टम अपडेट करता है। जब बसों में कमी ही नहीं होगी तो वे सड़को पर जरूर उतरेंगी। बस सही होंगी तो रस्ते में ब्रेकडाउन नहीं होगा। समय से सर्विस होगी तो प्रदूषण नहीं होगा। ब्रेकडाउन नहीं होगा तो ट्रैफिक जाम भी नहीं होगा। इसलिए दिल्ली के सभी डिपो को स्मार्ट डिपो में तब्दील करना चाहिए।

loading...